Wednesday, October 1, 2014

हवा को पीठ

हम तो हैं पैदाइशी ढीठ
देते नहीं हवा को कभी भी पीठ

हम समझते हैं हवा का रुख जरूर
देते नहीं मगर उसे पीठ कभी भी
जानते हैं नीयत तूफानी लहरों की
इरादों की बुलंदी भी है कम नहीं
उठाये कातिल जहमत कितनी भी
कमेगी नहीं जिस्म-ओ-खंजर की दूरी
टकराकर बज्रवत हड्डियों से
टूट जायेगी क़ातिल की छुरी
जानते हैं दुनियादारी के रश्म-ओ-रिवाज़
नाइंसाफी से तेज होती रफ़्तार-ए-बेरोजगारी
खेलते रहे आज़ादी और बेरोगारी के खतरों से
जानते हैं आज विरोध ही सही कदम है
भक्ति भाव से जड़ हो जाएगा समाज
करते नहीं किसी कदम पर समझौता
गढ़े नहीं  कुतर्क और गोलमटोल भाषा
निकले हैं आवाम का जमीर जगाने
छू नहीं सकती हमें कभी निराशा
जागेगा जिस दिन जमीर-ए-आवाम
हवाओं के रुख करेंगे हमको सलाम
(इमि/०१.१०.२०१४)

4 comments:

  1. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 2-10-2014 को चर्चा मंच पर चर्चा तुगलकी फरमान { चर्चा - 1754 } में दिया गया है
    आभार

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    अष्टमी-नवमी और गाऩ्धी-लालबहादुर जयन्ती की हार्दिक शुभकामनाएँ।
    --
    दिनांक 18-19 अक्टूबर को खटीमा (उत्तराखण्ड) में बाल साहित्य संस्थान द्वारा अन्तर्राष्ट्रीय बाल साहित्य सम्मेलन का आयोजन किया जा रहा है।
    जिसमें एक सत्र बाल साहित्य लिखने वाले ब्लॉगर्स का रखा गया है।
    हिन्दी में बाल साहित्य का सृजन करने वाले इसमें प्रतिभाग करने के लिए 10 ब्लॉगर्स को आमन्त्रित करने की जिम्मेदारी मुझे सौंपी गयी है।
    कृपया मेरे ई-मेल
    roopchandrashastri@gmail.com
    पर अपने आने की स्वीकृति से अनुग्रहीत करने की कृपा करें।
    डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
    सम्पर्क- 07417619828, 9997996437
    कृपया सहायता करें।
    बाल साहित्य के ब्लॉगरों के नाम-पते मुझे बताने में।

    ReplyDelete