Wednesday, October 8, 2014

तस्वीर

इस तस्वीर पर तो एक कविता होनी चाहिए
लेकिन कविता पर कविता के लिए होना पडेगा भाषाविद
या होना पडेगा भाषा को ही समृद्ध
होता गर कालिदास
तो लिखता शिखर-दसना, चकित हिरनी प्रेक्षणा
लेकिन नहीं होता यह सोच उदास कि नहीं हूँ कालिदास
(इमि/०८.१०.२०१४)

1 comment: