Wednesday, January 4, 2012

परिवर्तन

परिवर्तन
प्रकृति की रीत है परिवर्तन
ज़िंदगी का गीत है परिवर्तन
पुरातन पर नवीन की जीत है परिवर्तन
इतिहास का स्थाई भाव है परिवर्तन
कभी धीमे-धीमे कभी हौले-हौले
आगे ही बढ़ता है परिवर्तन
है कौन सा वह काल अज्ञात
दुःख-दैन्य न थे जब ज्ञात?
होता नहीं बैक गीअर
इतिहास की गाड़ी में
मिलेगा नहीं स्वर्ण-युग
अतीत की पिटारी में
घुसते नहीं आप उसी नदी में दो बार
देखते-देखते बदल जाती है बारम्बार
अकेला स्थायी तत्व है परिवर्तन
सदियों से मानव-श्रम का सार है परिवर्तन
ब्रह्माण्ड का अंतिम सत्य है परिवर्तन.

2 comments:

  1. जी हाँ परिवर्तन शाश्वत सत्यहै। सत्यकथन है यह कविता।

    ReplyDelete
  2. एक निवेदन
    कृपया निम्नानुसार कमेंट बॉक्स मे से वर्ड वैरिफिकेशन को हटा लें।
    इससे आपके पाठकों को कमेन्ट देते समय असुविधा नहीं होगी।
    Login-Dashboard-settings-posts and comments-show word verification (NO)

    अधिक जानकारी के लिए कृपया निम्न वीडियो देखें-
    http://www.youtube.com/watch?v=VPb9XTuompc

    धन्यवाद!

    A Request

    Please Remove Word Verification in comments by doing following steps--

    Login-Dashboard-settings-posts and comments-show word verification (NO)

    or watch this HINDI video for more information-

    http://www.youtube.com/watch?v=VPb9XTuompc

    With Thanks & Regards

    ReplyDelete