Wednesday, May 27, 2015

फुटनोट 31

आज से पूरे 43 साल पहले (उम्र 17 साल में 27 दिन कम) आज की तारीख में मेरी शादी की पूर्वसंध्या पर भत्तवान का भोज था. मैं इंटर की परी देकर घर लौटा तो शादी का कार्ड छपा मिला. मैं अवाक. कम उम्र में शादी के मेरे विरोध को कुछ शातिर बुजुर्गों ने गप्पबाजी मे प्रचारित किया कि मैं अपनी मर्जी से शादी करना चाहता हूं. दादी कार्ड छपने के बाद शादी न होने से किसी की लड़की की इज्जत का हवाला देकर रोने लगीं. मुझसे देखा न गया. राजी हो गया. तब भी लोग मेरे  ऊपर नज़र रख रहे थे कि कहीं भाग न जाऊं. लेकिन मैं तो दादी को वचन दे चुका था. उन दिनों 1 महीने पहले लगन लग जाती थी तथा बहुत से कर्मठ होते थे, मैंने उन कर्मठों में नहीं शरीक हुआ, किसी ने जिद्द भी नहीं किया. फुटनोट में टेक्स्ट को पीेछे छोड़ने की कुआदत लगता है बुढ़ापे में बढ़ जाती है. एक गांव(नाम याद नहीं आ रहा) से जाजिम ले आना था. बीहड़ के  उस गांव (छोटी नदियों के बीहड़ विकट होते हैं) में बैल गाड़ी नहीं जाती थी. ऊंट से ले अाना था. मैं ऊंट की सवारी के चक्कर में ऊंटवान के साथ चला गया. लौटने में देर होने से हंगामा मच गया था. हर किसी को दादा जी की डांट पड़ी थी कि पगला (मुझे वे इसी नाम से बुलाते थे) को जाने देने के लिये, मुझे छोड़ कर. लिख चुकने के बाद लग रहा है कि बेजरूरत लिखा गया. लेकिन अब तो लिखा गया.

No comments:

Post a Comment