Sunday, August 3, 2014

फुटनोट 8

Naren Bharti उम्र की इस दहलीज पर पर्यटन का समय नहीं है. अब वही यात्राएं संभव हो पाती हैं जिन्हें काम से जोड़ा जा सके.मुज़फ्फरनगर रिपोर्ट की फॉलो-अप दौरों पर हमारी टीम में एक 70 साल के अवकाशप्राप्त प्रोफेसर थे जिनके घुटने की पीड़ा और शामली तथा मुज़फ्फरनगर की ग्रामीण सड़कों के झटकों की सूचना जिनके सरोकारों की सघनता के आगे छोटी पड़ जाती है. दंगाटूरिज्म एक पूर्वाग्रह-ग्रस्त शब्दावली का अंग है. धार्मिकता और सांप्रदायिकता में सीधा संबंध नहीं है. जिन्ना नास्तिक थे सावरकर का भी धर्म-कर्म से ज्यादा कुछ लेना-देना नहीं था. सांप्रदायिकता धर्मोंमाद आधारित राजनैतिक लामबंदी है जो हर प्रकार की सांप्रदायिकता पर लागू होती है. सहारनपुर के गांव अकबरपुर में मस्जिद-गुरुद्वारे का विवाद न्यायालय में है. कुछ लोगों ने पहले भी हल्ला-गुल्ला कर रहे थे ले-दे के मान गये इमरान मसूद टाइप संघियों के जुड़वे भाई पहुंच गये फिर हंगामा करने जिससे पास के कस्बे काठ  और सहारनपुर शहर में भाजपाइयों को सांप्रदायिक ध्रुवीकरण का बहाना मिल गया और लोग मटते-कटते रहें साम्राज्यवादी भूमंडलाय पूंजी के वफादार नेता श्रमविरोेधी कानून लाने और देश बेचने का काम बेरोक-टोक कर सकें. गुरुद्वारा कमेटी के मर्यादित बयान प्रशंसनीय है. अभूतपूर्व खून-खराबे और अमानवीय पलायन के साथ मुल्क और इतिहास के बंटवारे का माहौल बनाने में जितना हाथ मुस्लिमलीग और  जमात-ए-इस्लामी का है उतना ही हिंदूमहासभा और आरयसयस का. दोनों ही पूंजीवाद की कोख से पैदा साम्राज्यवादी शासन की नाजायज़ संतानें हैं और मौजूदा साम्राज्यवादी भूमंडलाय पूंजी के वफादार सेवक. लेकिन हमेशा बहुसंख्यक सांप्रदायिकता सामासिक संस्कृति के लिए बड़ा खतरा होती है.

No comments:

Post a Comment