Thursday, July 31, 2014

फुटनोट 6

Naren Bharti किसी बात पर जुबान में ताला नहीं लगा है, आजाद हैं लब.. शक करने को कोई किसी को रोक नहीं सकता. मुज़फ्फरनगर पर हमारी रिपोर्ट में हमने मोदी-मुलायम के अप्रत्यक्ष समझौते की बात प्रमाणित की है. सहारनपुर धर्मस्थानों के नाम पर जमीन कब्जाने का मामला लगता है. धर्मस्थलों के नाम पर जमीन कब्जाने और उन्माद फैलाकर सांप्रदायिक ध्रुवीकरण कारपोरेटी दलालों का आजमाया हुआ नुक्शा है. आपने क्या लिखा सहारनपुर पर. हमारा छोटा सा संगठन है, हम हर जगह क्षमता अनुसार मानवअधिकार उल्लंघन पर आवाज़ उठाते हैं. हम सहारनपुर जाने की टीम बना रहे हैं, हम अफवाहों पर स्टैंड नहीं लेते. आपके कई कमेंट से जरूर लगता है कि आप फासीवादी सांप्रदायिकता की विचारधारा में अनजाने में फंस गये हैं.  आप बगल में रहते हैं सहारनपुर के क्यों नहीं गये प्रामाणिक जानकारी लेने और लोगों को अवगत कराने. विषयांतर के जरिए विमर्श विकृत करने की संघी प्रवृत्ति से बचिए. सहारनपुर में भी इंसान ही रहते हैं, आप क्यों नहीं उसके बारे में लिखते, आपतो पूर्णकालिक लेखक हैं मैं तो पूर्णकालिक नौकरी के बावजूद जितना संभव है लिखने की कोशिस करता हूं. निराधर निजी आक्षेप मानसिक दिवालिएपन और तालिबानी प्रभाव का सबूत है. ईमानदारी की मेरी प्रतिष्ठा इतनी आरर नहीं है कि किसी मोदी भक्त के संदेह से टूट जायेगी. दिमाग का इस्तेमाल कीजिए नरेन जी. तथ्यों-तर्कों से विहीन वक्तव्य मूर्खतापूर्ण तालिबानी फतवे सा होता है. नमस्कार.

1 comment:

  1. Pankaj Mohan; Sujit Basu & Naren Bharti :नरेन जी, प्रोफेसर सुजीत बसु एक युवा, ऐक्टिविस्ट अर्थशास्त्री हैं. हम -- जनहस्तक्षेप -- उप्र. पीयूसीयल के साथ वहां एक फैक्टफाइंडिंग टीम भेजने की योजना बना रहे हैं और रिपोर्ट जारी करने के बाद जनसभा करेंगे. सांप्रदायिकता धर्मोंमादी राजनैतिक लामबंदी है जिसे एक सामूहिक दुश्मन की जरूरत होती है और गरीब लोग राम-अल्लाह चिल्लाते एक दूसरेको मारते- काटते हैं और कुछ चालू लोग अपना उल्लू सीधा करने के भ्रम में देश बेचते हैं. सभी प्रकार की सांप्रदायिकतायें पूंजीवाद की सगी नाजायज़ संताने हैं. मैं इस पर लिखूंगा अभी नीद आ रही है, इस मामले का अपराधी मसूद है और उसके बहाने संघी बाकी जगहों पर उत्पात मचाकर सांप्रदायिक ध्रुवीकरण कर रहे हैं. सूडो सेकुलरिज्म का संघी शगूफा खुल कर खुद को सांप्रदायिक कहने की हिम्मत की कमी का नतीजा है.

    ReplyDelete